Posts Tagged ‘Shayar’

इश्क में हैं

Posted: March 17, 2013 in Poems
Tags: ,

1) इश्क के चर्चे तो बहुत सुने थे मगर
ख़ुद ही किस्सा बनेगे, ये सोचा नहीं था

2) जज़्बात और ख्यालों की बात कुछ और है
वक़्त की पाबंदियाँ तो सिर्फ तेरे-मेरे लिए हैं

3) आंखों में नमी नहीं, दिल भी सुकून से सो रहा
सांसे हैं या ये धधकती नब्ज़, जो जिंदा होने का आभास हैं

4) ये जो तुमने दिये हैं तो दुआ ही होंगी
आँसुओं ने ही तो अकसर दास्तने लिखी हैं

5) क्या हुआ याद रहे, ऐसे मेरे हालात कहाँ
ये मौसिक़ी नहीं, कुछ पलों ने बस करवट ली है

6) तेहज़ीब के गलियारों में खामोश सी सिसकियाँ हैं और कुछ मुस्कुराहटें हैं
यूँ खिलखिलाना और कभी दर्द का सैलाब बहाने की बेअदबी यहाँ गंवारा नहीं

7) आँसू हैं, कमजोर ना समझ इनको
इसके सैलाब में बस्तियां कई डूबी हुई हैं

8) इश्क में हैं, महफिल में क्यों ले आए हमें
तुमसे तो छुपा ना सके, ज़माने से छुपाते कैसे

Advertisements